Skip to content

Consultant Endodontist.
Doctor by profession, Writer by choice. बाकी तो खुद भी अपने बारे में ज्यादा नहीं जानता, रोज़ जिन्दगी जैसी चोट करती है वैसा ही ढल जाता हूँ।

Share this:
All Postsकविता (17)शेर (2)
आंखें
।। आंखें।। बिना लफ्जों के ये करती हैं बातें अदा में सब बयाँ कर जाती आंखे। हो खुशी या गम ये सब हैं समझतीं हर... Read more
मोहब्बत
तेरे ख्वाबों को हकीकत बना तो दूूँ तेरी उम्मीदों को बालफ्ज़ निभा तो दूँ मैं अपना यह पत्थर दिल पिघला तो दूँ कांटो भरी इस... Read more
न्यू ईयर
नई उमंग लेके आया नया साल, नई उम्मीदों से नाता जोड़ दो रखो साथ यादें अच्छी, बुरी साल पुराने के साथ छोड़ दो। लिखो परिभाषा... Read more
मोहब्बत की पहचान
मोहब्बत ना किसी से कहकर होती है जज्बातों के समन्दर में ये बैहकर होती है तबाह हो जाती हैं कितनी शख्सियतें इसमें ये तो मुश्किलें... Read more
मर्ज-ए-इशक
ना मुझे राम ना मुझे रहीम चाहिए ना नमक फिटकरी या नीम चाहिए मरीज हो गया हूँ मर्ज-ए-इश्क का टूटे दिल का करदे जो इलाज... Read more
याद है
तेरी साँसों का वो शोर याद है बरसा था जो सावन घनघोर याद है हाथ बढ़ा कर पकड़ती थीं बारिश की बूँदें जो मोहब्बत का... Read more
शेर
।।फर्जी दुनिया।। बनते हैं शहंशाह, कहते हैं हम किसी से कम नहीं शेर हैं सब कागज़ के जनाब, है किसी में दम नहीं। ।।दिलबर।। दिलबर... Read more
मोदी जी
देखो कैसे बदल रहा है भारत, लेके अपना कमाल आया है अपनी माँ की सेवा करने, देखो धरती का लाल आया है। देश की संसद... Read more
कवि नहीं हूँ
लिखता हूँ पर कवि नहीं हूँ। दिखता हूँ पर सही नहीं हूँ। कुछ घाव गहरे लिए बैठा हूँ पर होंठों को में सिए बैठा हूँ।... Read more
तन्हाई
मेले लगे लग के चले गए लोग खेले खेल के चले गए वहीं रहे तो बस हम और हमारी तन्हाई।