Skip to content

मांगा नही खुदा से ज्यादा बस इतना चाहती हूँ,
करके कर्म कुछ अच्छे सबके दिलों मे रहना चाहती हूँl
ईश वन्दना जन सेवा कर जीवन बिताना चाहती हूँ,
हर पल हर चेहरे पर मुस्कुराहट लाना चाहती हूँ ||

Share this:
All Postsकविता (7)गीत (2)दोहे (1)
***बैसाखी पर्व***
रंग रंगीला बैसाखी पर्व है आया खुशियों ने है रंग जमाया | चारों तरफ है छाई बहार दिल में जागी उमंगे हजार| साकार हुए हैं... Read more
***लफ्ज***
लफ्जों के ना होते दाँत फिर भी लेते हैं ये काट, दीवारें खडी किये बिना ही सबको देते हैं ये बाँट | मन के भाव... Read more
***लफ्ज***
लफ्जों के ना होते दाँत फिर भी लेते हैं ये काट, दीवारें खडी किये बिना ही सबको देते हैं ये बाँट | मन के भाव... Read more
***बेटी के दोहे***
**बेटी के दोहे***** 1) बांटें खुशी जहान को,बोले मीठे बोल कन्या फिर क्यूं बोझ है,बोल जिन्दगी बोल। 2) चलती फिरतीलक्ष्मी ,घर आंगन की शान होती... Read more
******वो******
नारी दिवस पर मेरी एक कविता.......पसंद आए तो लाइक और कमेंट जरूर करें | **************वो.......*********** हर सांस हर घडी सबकी खुशियां चाहे वो, हर पल... Read more
गुरू
गुरू वही जो ज्ञान दे बदले समाज ये ध्यान दे अनुभव कराये ज्ञान का,जीवन को इक पहचान दे। ****************************************** आत्मज्ञान है सबसे बडा पर तीन... Read more
जिंदगी क्या है....
******जिंदगी क्या है******* अपनों का प्यार है जिंदगी , सपनों का संसार है जिंदगी। थोडी खुशियां थोडे गम, मिला जुला व्यवहार है जिंदगी। मां का... Read more
सरस्वती वंदना
माँ शारदे माँ शारदे जय तेरी हो माँ शारदे..... श्वेतवसना कमलासना हंसवाहिनी वीणावादिनी ग्यान की ज्येत जगा दे जय तेरी हो........ सरगम के सुर सजाकर... Read more