Skip to content

स्नातक(आयुर्वेदाचार्य) विधा:- कविता, हास्य- व्यंग्य, शेर,गजल, कहानी,मुक्तक,लेख,
संप्रति:-फेसबुक @mahender2872.
ट्विटर @DrMahenderSing7.

Hometown: महादेव क्लीनिक, मानेसर व रेवाड़ी,
Share this:
All Postsकविता (115)मुक्तक (5)लेख (37)शेर (33)दोहे (5)कहानी (5)
अकेलेपन का इलाज़.
Dr Mahender शेर Jan 17, 2018
मत जूझ अकेलेपन से, खोज़ ले अपनेपन से, बहुत है काम करने वाली, दशों इंद्रियां, खोज़ ले, मन का कोई कोना,महेंद्र. वहीं हैं हर मर्ज... Read more
यह अब आपकी समझ.
Dr Mahender शेर Jan 14, 2018
1. जीने का ढ़ंग क्या बदला, लोगों ने साम्प्रदायिक कह दिया, खाता हु पीता हु नित्यकर्म करता हु. इसमें भी जाति वर्ण धर्म दिखता है... Read more
वक्त
वक्त वक्त तेरा फेर है, फेर फेर तेरा वक्त है, . तू न वक्त का है, न वक्त तेरा है, . संभल सके तो संभल,... Read more
अलविदा 2017.
जाते जा, कुछ आसान सवालों के जवाब तो देती जा, ले चली, उन हसीन, पलों को, जो यादगार बन, ऐतिहासिक हो जाएंगे, कुरेद कुरेद सवाल... Read more
बदलाव पर शेर
Dr Mahender शेर Dec 21, 2017
हिसाब रखना है तो, रख कुछ इस तरह, कुछ शेष तो नहीं बचा, अब देने के लिए, . सनातन पर छाप है, नूतन है अब... Read more
चैतन्यता पर शेर !!
Dr Mahender शेर Dec 9, 2017
मेरा लिखा कहाँ पढ़ पावोगे, जब अपने लिखे से परेशान हो, लिखे को तो मिटा लोगे मगर, जो कोरा रह गया वहाँ उलझ जाओगे, .... Read more
भूख और मज़हब
भूख तेरे मिटने पर, पेट तेरे भरने के बाद, नख़रे हज़ार हो जाते है, मज़हब की शुरुआत, बस यहीं से होती है, . सही सुना... Read more