Skip to content

नाम: डी. के. निवातिया
पिता का नाम : श्री जयप्रकाश
जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत)
शिक्षा: एम. ए., बी.एड.
रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य
समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का ह्रदय से आभारी तथा प्रतिक्रियाओ का आकांक्षी । आप मुझ से जुड़ने एवं मेरे विचारो के लिए ट्वीटर हैंडल @nivatiya_dk पर फॉलो कर सकते है.
मेल आई डी. dknivatiya@gmail.com

Share this:
All Postsकविता (86)गज़ल/गीतिका (23)मुक्तक (35)गीत (8)शेर (21)दोहे (1)हाइकु (1)
आला-रे-आला
आला-रे-आला *** आला-रे-आला, सुन मेरे लाला, लगा ले अपनी जुबान पे ताला जो बोलेगा सच्ची सच्ची बाते, किया जायेगा उसका मुँह काला वतन व्यवस्था का... Read more
दो बहनो का मिलन – वार्ता – (हिंदी-अंग्रेजी)
दो बहनो का मिलन – वार्ता – (हिंदी अंग्रेजी) ! दरवाजे पर ..दस्तक होती है …. डिंग-डोंग …डिंग-डोंग .. डिंग-डोंग …डिंग-डोंग .. हू इस आउट... Read more
अदा
अदा +++++++++++++++ मुझसे मुहब्बत भी बेपनाह करता है फिर भी मेरी हर बात पर बिगड़ता है इसे अदा कहुँ या फितरत जनाब की जो भी... Read more
माफ़ कर देना माँ --- मातृ दिवस — माँ पर कविता — डी. के निवातिया
माफ़ कर देना माँ तुझे मातृ दिवस पर याद नहीं किया मैंने शायद गुम गया कही मातृ दिवस तेरे निश्छल प्रेम की ओट में हर... Read more
व्याकुल इंसान
व्याकुल इंसान दरखत झूमे, सरोवर तीर, निर्झर निर्झर बहे बयार पर्ण:समूह के स्पंदन से, सरगम की निकले तान शीतल प्रतिच्छाया में, पंछी समूह करते विहार... Read more
नवदुर्गा के नौ रूप स्तुति
नवदुर्गा के नौ रूप स्तुति शैलपुत्री शिखर वासिनी, त्रिशूल धारिणी वृषभ वाहिनी, शिव अर्धांगिनी सर्व प्रथम पूजा प्रतिस्ठायीनी शैलपुत्री यशस्विनम नमो नम:!! ब्रह्मचारिणी तपो आचरण,... Read more