Skip to content

मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों में भी संघर्ष कर चुका हूँ ।

Hometown: मशरक, सारण ( बिहार )
Published Books

___

Awards & Recognition

___

All Postsकविता (59)गज़ल/गीतिका (21)मुक्तक (6)गीत (17)दोहे (5)लघु कथा (6)कहानी (2)हाइकु (9)
हँसी: खास टॉनिक
हँसी: खास टॉनिक // दिनेश एल० “जैहिंद” मर्द हंसोड़ लुगाई हंसमुख जोड़ी बेजोड़ // ********** लो हंसगुल्ले स्वाद में रसगुल्ले खास टॉनिक // ********** शिशु-मुस्कान... Read more
मुक्ति, युक्ति और प्रेम
मुक्ति, युक्ति और प्रेम // दिनेश एल० “जैहिंद” हो तुम कितनाहुँ बड़े कर्मयोगी ।। हो तुम कितनाहुँ बड़े धर्मयोगी ।। जनम-मरण के बीच लटके रहो,,... Read more
सिंदूर: एक रक्षक
सिंदूर: एक रक्षक // दिनेश एल० “जैहिंद” कवि – एकनिष्ठता का द्योतक सिंदूर पतिव्रता का पोषक सिंदूर । सिंदूर रचता सकल परिवार स्त्री–लाज का रक्षक... Read more
ग़ज़ल: मुझे बहकाने लगी है ।
ग़ज़ल: मुझे बहकाने लगी है । // दिनेश एल० “जैहिंद” जब से खामोशियाँ मुस्काने लगी हैं, मेरी कुछ ख्वाहिशें सुगबुगाने लगी हैं । अब तलक... Read more