Skip to content

मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों में भी संघर्ष कर चुका हूँ ।

Hometown: मशरक, सारण ( बिहार )
Published Books

___

Awards & Recognition

___

All Postsकविता (59)गज़ल/गीतिका (21)मुक्तक (6)गीत (17)दोहे (5)लघु कथा (6)कहानी (2)हाइकु (9)
.... दीवानापन छोड़ जाऊँगा !
दीवानापन छोड़ जाऊँगा ! // दिनेश एल० "जैहिंद" भरत-सा अपनापन छोड़ जाऊँगा ।। यादों में रहूँ प्रेमधन छोड़ जाऊँगा ।। कृष्ण-सा कौतूहल दूँ मैं मुहल्ले... Read more
लघुकथा : पर्दे की ओट
पर्दे की #ओट // दिनेश एल० "जैहिंद" ( #सोपान परिवार द्वारा दैनिक लेखन प्रतियोगिता में चुनी गई दैनिक श्रेष्ठ लघुकथा ) “पुराने रिवाजों को तोड़कर... Read more
## प्रेम ##
((( प्रेम ))) ईश से प्रेम है सांसारिक मुक्ति किताबी बातें । ********** कुटुंब-प्रेम होता मायावी बँधन अक्षर: सत्य । *********** प्रेम-बँधन खुशहाल परिवार विश्व... Read more
(((( नालंदा ))))
((( नालंदा ))) विश्व प्रसिद्ध पुरातन विश्वविद्यालय, चहुदिश प्रसिद्धि - प्राचीन ज्ञानालय । बजता डंका देश-विदेश को जिसका, है नाम अतिविलक्षण नालंदा उसका । प्राचीन... Read more
..... मुहब्बत मेरी पुरानी मिल गयी !
..... मुहब्बत मेरी पुरानी मिल गयी ! @@@@ दिनेश एल० “जैहिंद” बरसों खोई मोहब्बत मेरी पुरानी मिल गयी । मुरझाई मेरी काया को फिर जवानी... Read more