Skip to content
कौमी एकता
मज़हबी दांव पेच मत खेलो मुल्क मत सूनसान होने दो। मंदिरों में भी घंटे बजने दो, मस्ज़िदों में अज़ान होने दो। -दीपक अवस्थी (८८९६०९८५६७)