Skip to content

मैं अवधेश कुमार राय आप के लिए अपनी रचना लेकर आया हुं,
पत्रकारिता के साथ लेख, रचना, कहानी, कविता ,शायरी आप के
लिए........
हमारी रचना के लिए संपर्क करें ब्लाग
awadhmagadh.blogspot.com.

All Postsकविता (12)गज़ल/गीतिका (2)मुक्तक (2)लेख (1)लघु कथा (2)
सजनी
डुबते सुरज की इस घड़ी में. गोरी ! किस व्यथा के संग. फिर आयेंगे बालम तेरे. फिर जागेगी दिल में मृदुल उमंग. शहरी भिड़ की... Read more
सनम
कोई खता हो सनम तो केह दो. मेरी तमन्ना को रख दो. बाकौल हो रही मेरी आरजु से जुस्तजू. अपनी दिल की गहराईयों को कह... Read more
दिल
दिल को थामे रखा हैं. यादों को अंशुमन के धागे में बांधे रखा हैं. कोई जजीरा गिरफ्तार ना हो हुश्न में. दिल को कागज पर... Read more
पलायन
आज के भारत में रोजगार की तलाश में पलायन आम बात हैं, चाहे वो पढ़ा लिखा अभिजात्य वर्ग का हो या अनपढ़ गरीब नागरिक |... Read more
कफ़न
चमन खिला रहा हुं, बहारों में अमन खिला रहा हुं. कोई मुद्दत नहीं मेरी महबूब . मैं तो कफन सिला रहा हुं. गौर करना मुझको... Read more