Skip to content

अध्यापक
B.Sc., M.A. (English), B.Ed.
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय साईंखेड़ा

All Postsकविता (7)गीत (2)शेर (1)
कल्पतरु चालीसा
स्वामी विद्यानंद जी, नरहरि केशवानंद। साईंधाम की पुण्यधरा पर, चहु ओर आनंद।। कल्पतरु अभियान है, कदम्ब का अवतार। जड़बुद्धि'कल्प' बखान करे,जीव-जगत का सार।। अँगना तुलसी... Read more
अब तो निंदिया टूट गई
जय जयकारा करते करते साल अनेकों बीत गई । राजनीति के गंदे गलियारों में सदियां बीत गई।। दिव्य स्वप्न दिखलाने वालों अब तो निंदिया टूट... Read more
अनमोल कथन
"समस्या और उसका समाधान हम स्वम् हैं, अपेक्षा निरर्थक है।" -अरविंद राजपूत "कल्प" "बदलना प्रकृति का सिद्धांत है, मगर सिद्धांत न बदल पाएं ऐसी हमारी... Read more
भारत भाषा हिंदी
दुनिया में लाखों भाषाएँ, मेरी भाषा हिंदी। अलंकारों से सजी हुई है, भारत भाषा हिंदी।। दसों रसों का सार है जिसमें,रसमयि भाषा हिंदी। छंदों से... Read more
शिक्षा देना ध्येय हमारा
नहीं मान-सम्मान चाहता, शिक्षित हो हर वर्ग हमारा। अभावों के पथ पर चलकर, शिक्षा देना ध्येय हमारा।। दीप समान जलाया खुद को, अंधियारों में परिजन... Read more