Skip to content

गीत-ग़ज़लकार by Passion
नाम: आनंद कुमार तिवारी
सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान
जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में
शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising)
लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc
प्रकाशन: रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित
FB/Tweeter Page: @anandbiharilive
Whatsapp: 9878115857

All Postsकविता (1)गज़ल/गीतिका (20)मुक्तक (1)गीत (3)
पहाड़ों के दरमियाँ एक नदी बहती हुई
?हिमाचल की यादें ताज़ा करती रचना? पहाड़ों के दरमियाँ, एक नदी बहती हुई हिरणी-सी चलती गई सर्दियां सहती हुई-1 पानी की लहरें हो, या छलकता... Read more
काले नोटों का कारोबार बंद हुआ
काले नोटों का कारोबार बंद हुआ.... नकली नोटों का भी बाजार बंद हुआ। सोना,मकां चुटकी में खरीद लेते थे कालेधन का काला व्यापार बंद हुआ।... Read more
वो आगे और जाना चाहता है
वो आगे और, जाना चाहता है मुकाम ऊँचा, बनाना चाहता है।1। लोगों के काम आए, ताज़िन्दगी किरदार, यूँ निभाना चाहता है।2। प्रेम बढे, शांति, ख़ुशहाली... Read more
छवि सांवली सलोनी लगते हो सबसे प्यारे
छवि सांवली सलोनी, लगते हो सबसे प्यारे जीवन में रंग भर दो, अब तक हैं हम बेचारे।1। बेताब दिल की धड़कन, अब ढूंढती सहारे भवरों... Read more
माँ दुर्गा-वंदना
माँ दुर्गा-वंदना तेरी चरणों में दुर्गेश्वरी हम आ गए तेरी शरण में परमेश्वरी हम आ गए... हमें ज्ञान दो, स्वाभिमान दो, वरदान दो भाविनी, भवमोचनी,... Read more
मेरी बिगड़ी भी तू ही बना श्यामलं
अच्युतं केशवं कृष्णं वल्लभं स्वागतं स्वागतं स्वागतं स्वागतं.... मथुरा और वृन्दावन में करिश्मा किया होनी अनहोनी अनहोनी होनी किया एक अंगुली पे गोवर्धन धरे माधवं...... Read more
जगह दिल में  बनाना जानते है
जगह दिल में बनाना जानते है याराना भी निभाना जानते हैं।1। पूछो कुछ; बताते कुछ हैं यारों फ़कत बातें बनाना जानते हैं।2। कोई महफ़िल नहीं... Read more