Skip to content
खपरैल. (दोहे)
मिट्टी के खपरैल घर , संजोये हैं गाँव | वही चर्मराती खाट औ, घने नीम की छाँव || गाँवों में अब घर हुए, कितने आलीशान... Read more
कह-मुकरी
उसका रूप भुला ना पाऊं, छोडूं ना मैं जब पा जाऊं, उसके बिन यह दुनिया खोटी, क्या सखि साजन ? ना सखि रोटी ! गर्म... Read more
मुक्तक.
1 बोझ में मँहगाई के मत देश को उलझाइये कौन कहता है जमीं पर चाँद लेकर आइये एक निर्धन किसतरह जीता है मेरे देश में,... Read more