Skip to content

मेरा नाम आकिब जावेद है| पिता - श्री मो.लतीफ़ , माता- श्रीमती नूरजहां | मैं एक छोटे से क़स्बे बिसंडा जिला बाँदा (उत्तर प्रदेश) का निवासी हूँ| जन्मतिथि- 06-02-1993, शिक्षा- स्नातक कंप्यूटर साइंस, उत्तीर्ण- प्रथम श्रेणी, सत्र-2012, कालेज- अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा (मध्य प्रदेश)
परास्नातक-MA History BU University Jhansi UP से प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण किया।
इस समय बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षक के पद पर कार्यरत हूँ।
कुछ लिखने का बचपन से ही शौख रहा हैं।समाज की बुराइयों पर कटाक्ष का माध्यम अपने ग़ज़ल,कविता,कहानी के माध्यम से रखने की कोशिश करता रहता हूँ,कुछ सीख रहा हूँ,लिख रहा हूँ।समाज कार्य को करने की कोशिश रहती हैं।।
इस समय संघ लोक सेवा परीक्षाओं की तैयारी में जुटे हुए हैं| कविता ,लेखन और नई-नई जगहों में घूमने की रूचि रखते हैं ।

कविशाला,साहित्यपीड़िया,yourquote,Nojoto आदि के लिए लेखन कार्य जारी हैं।
साहित्य के सोपान परिवार,कवितालोक से जुड़े हुए हैं।
निरंतर सीख रहे हैं, कुछ लिख रहे है।।

ट्विटर पर फॉलो कर सकते हैं
www.twitter.com/rockonakib

फेसबुक में भी मिल सकते हैं

www.facebook.com/rockonakib

संपर्क सूत्र-09506824464
ajbisanda@gmail.com

बुंदेली धरती में जन्म लिया,इसका हमको अभिमान हैं
रक्त रक्त गुरूर रखता,यही इसकी पहचान हैं।।
सधन्यवाद
http://awajakibjaved.blogspot.com

Hometown: बाँदा
Awards & Recognition

Waiting

Share this:
All Postsकविता (36)गज़ल/गीतिका (28)मुक्तक (2)गीत (1)शेर (4)कहानी (1)हाइकु (4)
हिन्द के निवासी हैं, फख्र करेंगे
हिन्द के निवासी हैं,फख्र करेंगे देश के लिए जियेंगे,मर मिटेंगे ये दौलत,जवानी कुर्बान करेंगे देश के लिए हम नग़मे लिखेंगे तिरंगे को शान से,हाथो में... Read more
माँ!!
ज़िन्दगी में जिसके माँ नही होती है उनसे पूछो माँ की कमी क्या होती है।। जब आफ़त मेरे सर पे आन पड़ती है सिखाई माँ... Read more
सजदों में लज़्ज़त ना थी...मेरी दोस्ती से पहले
तुझे कोई जानता ना था...मेरी दोस्ती से पहले तेरी जिंदगी रोशन कहाँ थी...मेरी बंदगी से पहले तेरी सादगी कहाँ थी..मेरी हाज़री से पहले तू खुदा... Read more
अकेला
हर राह,हर गली, हर मोड़,हर सड़क हर चाह,कोई हमसफर मत भूल तू पथिक निडर चलता जायेगा तू हरदम यूँ ऐसे अकेला ही चल जिंदगी के... Read more
हाइकु!!डोली
नाज़ों से पली बाबुल के आंगन वो दौड़ी खेली डाँट भी सही माँ की लोरी भी सूनी पायी प्यार भी भाई से लड़ी बहन को... Read more
मुहब्बत के फ़लसफ़ा में ये कहानी होनी चाहिये!!
सोच में तुमको ही सोचूँ,सोच ये होनी चाहिये मुहब्बत के फ़लसफा में ये कहानी होनी चाहिये तेरे मेरे इश्क की,कोई पुरानी निशानी चाहिये चाँद तारो... Read more
ग़ज़ल!!अश्क़ का वो कतरा अब कहाँ मेरे हासिल में हैं!!
रंजो गम की दुनिया में वो मेरे महफ़िल में हैं लाख छुपाये प्यार मुझसे वो अब मेरे दिल में हैं।। लाख हालात मेरे मुश्किल सही... Read more
दिल!!हाइकु!!
पत्थर दिल बेख्याल सा रहता घूमता रहा घमंडी रहा बेपरवाह फिरा ऐसे ही रहा तोड़ने वाले तोड़ते ही रहते मायूस हुआ चाहत रही दिल में... Read more
एल्बम
छण छण गतिमान जिंदगी का पहिया उस पहिये को यादो के रूप में समेट के रखती है चाहे अच्छा लम्हा हो या कि हो कोई... Read more
धड़कन
मेरी हर साँसों मे सिर्फ अब तेरी ही रवानी है... तुझे देखू सिर्फ तेरी ही कहानी है.... दिल की हर धड़कन में अब तू ही... Read more
ओस
ओस गिरे बूंदों से जो फूलों के ऊपर रखती नमी ओस की बूँद देती सीख नयी हैं जीवन भर किरन अब सूरज की पड़ती ओज... Read more
ग़ज़ल!!अश्क़ का वो कतरा अब कहाँ मेरे हासिल में हैं
रंजो गम की दुनिया में वो मेरे महफ़िल में हैं लाख छुपाये प्यार मुझसे वो अब मेरे दिल में हैं।। लाख हालात मेरे मुश्किल सही... Read more
ग़ज़ल!!
अपनी तबाही का ऐसे जश्न यूँ मानाती हैं सफर में भी जिंदगी लेती हैं इम्तिहाँ अपना।। दिल की धड़कनों पे हैं अब किसी का हक... Read more
हाइकु!!निर्झर
बारिश आयी निर्झर सी बछौर मन भायी सोता बहा दिखा प्रकृति छटा मन समायी इंद्रधनुष रंग बिखेरे खूब झरना खिले आकिब देखो ऋतू बहार आयी... Read more
झरना
मन का झरना बहता जाये इस कोने से उस कोने झरना देखो आँखों का भी बोझ हुआ गर कुछ दिल में बह जाता यह पल... Read more
दिसम्बर
छंद मुक्त रचना: दिसंबर साल का अंतिम महीना हूँ महीनों का मैं नगीना हूँ गर्मी को मैं देता मात जाड़े की लाता सौगात काम धाम... Read more
होना चाहिये!!
इंसान का हमेशा दिल साफ़ होना चाहिये लोगों को माफ़ करने का हुनर होना चाहिये ************************** लोग लगाते हैं तोहमत सदा एक दूसरे पर आपस... Read more
किस्मत का खेल
देख तमाशा किस्मत का कैसा कैसा खेल दिखाये कुछ को देखो सब दे जाये कुछ के कुछ हाथ ना आये खेलने कूदने की उम्र में... Read more
मंज़िल
ये जीवन हैं जीवन में सब होना हैं कुछ पाना हैं तो कुछ खोना हैं थोड़ा उम्मीद हैं तो ना उम्मीदी भी संघर्ष के पथ... Read more
वक़्त
🕰 "वक़्त" 🕰 वक़्त ... वक़्त वक़्त की बात हैं कौन किसे,कौन वक़्त याद करता हैं वक़्त ... सतत, व्यापक अनिश्चित ऎसे ही समयारूप चलता... Read more
मधुशाला
होश ना रहा कुछ हमे,ग़मो को अपने दबाये हँसता,मुस्कुराता,लड़खड़ाता खुद को डुबाये तमाम मुश्किलों को अपने नज़रो में समाये नही मिल रहा हमे अब कोई... Read more
रूह
उस सितमगर की यादे बेसबब सबा में बह रही मेरे साँसों में उतर कर रूह में यूँ अब समा रही दिल तड़प गया, जाँ मचल... Read more
शायरी
Akib Javed शेर Nov 26, 2017
आशिकी छुपी हैं,तिश्नगी दिखी हैं बेखुदी जली हैं, शायरी लिखी हैं आदमी कही हैं, सादगी नही हैं रौशनी बुझी हैं,जिंदगी ढही हैं बेखुदी वही हैं,... Read more
बंद मुट्ठी में हासिल फ़क्त इंतज़ार के कुछ नही!
इस कदर चाहूँ तुझे अब मेरा दम निकल जाये देखूँ,सोचूँ,तुझे पाऊँ अब ये अरमान निकल जाये वो तुझे देखा जब नायाब संगमरमर सा तराशा हुआ... Read more
आशिक
दिल में चाहत छुपाये मिलने को तुझसे चाहे बावला सा हैं कँहा कुछ जानता हैं ये गगन,अम्बर छूने को चाहे नदियाँ, पर्वत, चाँद,तारे लाने को... Read more
मोबाइल
विषय: मोबाइल जीवन कितना बढ़िया था, गाँव घर घर लगतीं चौपाले थी बच्चो की खिलती किलकारी थी आपस में खूब हंसती नारी थी लेकिन जबसे,... Read more
राधा श्याम
नाम तेरा मेरा क्यू लेते साथ प्रेम से इतराती,रिझाती राधा श्याम से बोली कितना #प्रेम करते मुझसे मुझको जरा बताओ तो नही बोले फिर कुछ... Read more
आसान नही यँहा!
आसान नही यँहा किसी से दिल का लगाना खंजर छुपाये बैठा हैं ना जाने कोई परवाना आसान नही यँहा तेरी यादो को मिटाना कुर्बान ना... Read more