Skip to content
ग़ज़ल
ग़ज़ल उठाते काँधों पर बन्दूक गोली छूट जाती है, रहें तैनात सीमा पर गृहस्थी छूट जाती है. इज़ाज़त हो अगर मुझको मैं इक शेर कह... Read more
ग़ज़ल
मतला से शुरुआत .... ********************* क्यूँ लहजा तेरा शायराना नहीं है लिखी क्यों ग़ज़ल जो सुनाना नहीं है बहुत प्यार मुझको मिला वालिदा का मुझे... Read more
लैपटॉप
लघु कथा लैप टाॅप सोने की बहुत कोशिश कर रही थी पर नींद आ ही नहीं आ रही थी मालूम नहीं किस कोने में छिप... Read more
आज के ही दिन
आज का दिन 16 जून 2013 दो वर्ष पहले आज ही के दिन उस दिन सूरज नही निकला था मूसलाधार बारिश हो रही थी, वहाँ... Read more
माँ कैसी  हो तुम ?
कहानी माँ कैसी हो तुम ? आभा सक्सेना देहरादून कल ही मैं माँ को मेंन्टल हाॅस्पीटल में छोड़ कर आयी हूं उनको मेंटल हाॅस्पीटल में... Read more
अनुत्तरित प्रश्न
कहानी अनुत्तरित प्रश्न.... ऽ आभा सक्सेना देहरादून यूं तो वह थे तो मेरे दूर के रिश्ते के मामा ही। पर, मेरी माँ ने ही उन्हें... Read more