Skip to content

स्वागत हैं मेरे जज्बात साज़ गीतों में. कभी जब मैं यूँ ही तन्हा बैठता हूँ ,और अचानक ही पुरानी यादों की बारिशें,मेरे जेहन में बेतरतीब से ख्याल बूँद बनकर, मेरी कलम से कागज़ पे लफ्ज़ उकेरने को मचलने लगती है II

Share this:
All Postsकविता (24)गज़ल/गीतिका (1)मुक्तक (2)गीत (1)लेख (3)लघु कथा (1)
ये हैं आशिक़ी
एक बार हमारी प्यारी किशोरी राधा रानी से कृष्ण ने पूछा ,कुंज गली मे कोई एतबार नही करता , कहते है सब छलिया मुझे ।... Read more
नज्म-ए-आशिकी
जब पिघल रहे हो जज्बात तो फिर , दिल मे धुंआ क्यू ना करु । सर-ए-महफ़िल मे अक्सर निगाहें उन्हें ढूढ़ती है, जो कभी नजरों... Read more
सयानी लड़की
वो है एक सयानी लड़की परिवार के लिए पारसमणि से कम नही महज छोटे कपड़े ना देखो अराजक सोच को मार देख सकते हो तो... Read more
बहन विरासत है
महज बहन नही हो तुम ,मेरे सपनों की आवाज हो ,मेरे सुनहरे भविष्य का आगाज हो, घर के आंगन की तुलसी हो , माना कि... Read more
वजह तुम हो
मैं तो चलु नजरों के मैख़ाने ले कर पर वो तर जाए , घनश्याम वजह तुम हो । मैं तो देहरी के दीपक से होड़... Read more
दृष्टि प्रेम पथ
अक्सर कुछ कुछ सुना है और कुछ कुछ जीवन के अनुभव से जाना है , दृष्टि ही सृष्टि का निर्माण करती है । वही दृष्टि... Read more
मेरी माशुका
मेरी माशुका सिर से पैर तक चलता फिरता काव्य उसके हर एक शब्द लबों से निकल कर रूह को हैं छु देने वाली प्रेम और... Read more
मेरी कलम
मेरी कलम है कोई बेमेल सी कश्मीरी सरकार नही वो कोई ऐसी बात नही करती जिसका इंसानियत से सरोकार न हो इसमें रंग है देश... Read more
गाँव की बेटी
रिश्तों को पैसों से नही तोलती है वो हां वो एक गांव की बेटी है ।1। उसकी सुंदरता बाजारू सामान की मोहताज नही , वो... Read more
अनामी
असल नाम क्या है मेरा ना मैं जानती हूँ ना कोई और बस इतना जानती हूँ बेटी हूँ मैं मोह की लालच मेरा भाई क्रोध... Read more