Skip to content
सहारा
सहारा बनो तो सहारा तुम उनका बनो , जिनका कोई जहां में होता नहीं। मजारों पे चादर चढ़ते हर दिन , गरीबों को चादर दिलाया... Read more
चरित्रहीन
चरित्रहीन --------------- सफेदपोश चरित्रहीनो से , दुनिया पटी पड़ी है भाई। दौलत- चादर से ढककर, कहलाते सबसे महान हैं। गरीब की इज्जत खरीदते, चरित्रवान फिरभी... Read more
उलझन  (कहानी )
"उलझन" .............. शाम का समय ,आकाश में बादल छाये हुए थे, हवा तेज चल रही थी और मौसम भी जाड़े का ।लोग रजाई में दुबके... Read more
बेटी
बेटी ...... बेटी माँ के कलेजे का टुकड़ा बार बार ये सुनती रहती हूँ मैं उसी कलेजे के टुकड़े को तू मैया काहे को मिटा... Read more