Skip to content

____ * स्वावलंबन * _____

Ranjana Mathur

Ranjana Mathur

मुक्तक

September 14, 2017

किसी की भी चाहत अधिक न करो।
अपने रास्ते खुद तय करो।।
इस संसार की यही रीत है।
कोई किसी का नहीं इस जहाँ में।।
इसलिए जहाँ तक हो सके
खुद अपने लिए जियो और मरो।।

—- रंजना माथुर दिनांक 13 /12/2016
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Author
Ranjana Mathur
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र... Read more
Recommended Posts
वतन से इश्क करो .......
राष्ट्रहित मै ये जीवन हवन तो करो जीत जाओगे दिल से जतन तो करो | मंजिले खुद ब खुद पास आ जाएँगी इश्क करना ही... Read more
खुद को इतना संत करो।
हिंदुस्तानी गरिमा को अब अक्षुण्ण और अनंत करो। कोई गाली दे जाये मत खुद को इतना संत करो। जब अभियान चलाया है तो भारत स्वच्छ... Read more
मुक्तक
हरबार तुम एक ही नादानी न करो! हर किसी से जिक्र तुम कहानी न करो! रूठी हुई है मंजिल प्यार की मगर, हरबार तुम खुद... Read more
बात- बात पर आँखें न भिगाया करो..................
बात- बात पर आँखें न भिगाया करो जैसे चलता है काम चलाया करो हमसे ना पूछो तुम हाल-ए-दिल अगर हाल -चाल अपने मगर सुनाया करो... Read more