.
Skip to content

__जिग़र का टुकड़ा होती है बिटिया___

राहुल रायकवार जज़्बाती

राहुल रायकवार जज़्बाती

कविता

March 20, 2017

बिदाई के दिन जिगर का टुकड़ा होती है बिटिया…
मगर जन्म होने पर क्यों शोक होती है बिटिया…
.
निर्मल संस्कारों की छाँव में पलती है बिटिया…
मगर बेटे की आस में क्यों खलती है बिटिया…
.
चंचल पवित्र हृदय-सी होती है बिटिया…
मगर बेटों से परे क्यों होती हैं बिटिया…
.
कंधे से कंधा मिलाकर चलती है बिटिया…
मगर उम्मीदों पर खरा उतरती है बिटिया…
.
घर के आँगन में लगा तुलसी का पौधा होती है बिटिया…
मगर बेटे की आस में कोख में हुआ सौधा होती है बिटिया…
.
अपने हरेक ख्वाब को तोड़कर मुस्कुराती है बिटिया…
मगर बाबुल की रौनक हर वक्त सजाती है बिटिया…
#जज़्बाती…
#rahul_rhs

Author
राहुल रायकवार जज़्बाती
उफ़...मीठी_चाय... कागज की नाव... अल्फाज मेरे....कलम तेरी... बस साधारण-सा कलमकार... #जज़्बाती....
Recommended Posts
यहाँ अजन्मी मर जाती है, क्यों माँ कि कोख पर बिटिया| देवी का अनूप रुप है, जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया | संस्कार धरोहर आन... Read more
कन्या भ्रूण संरक्षण
कविता क्यों बिटिया तुम्हें रास आती नहीं ? क्यों ख़ुशियाँ तुम्हें यार भाती नहीं ? है बिटिया घरों में चहकती बुलबुल, क्यों बुलबुल तुम्हें यार... Read more
क्यों परदेशी होती है बिटिया
???? बाबुल के आँगन की चिड़िया, क्यों परदेशी होती है बिटिया। बाबुल आँगन फूल सी खिलती, महकाती फिर दूसरी बगिया। बाबुल आँगना से कोसों दूर,... Read more
बिटिया
घर आँगन की शान है बिटिया,माँ की जैसे जान है बिटिया बिटिया घर की रौनक होती, चेहरे की मुस्कान है बिटिया ख़ुशी ख़ुशी हर गम... Read more