.
Skip to content

1……… कुंडलिया छंद……..?

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कुण्डलिया

October 2, 2017

यह संसार तरु सम है,हम पंछी तुल्य हैं।
इसके फल छाया चखें,ये जीवन मूल्य हैं।।
ये जीवन मूल्य हैं,क्या तेरा मेरा यहाँ।
न सुबह-शाम तेरी,न सदा है डेरा यहाँ।
सुन प्रीतम की बात,मस्ती में रहेगा वह।
प्रेम से मिलजुलकर,हँसेगा भोगेगा यह।
***************************
2..कुंडलिया
***************************
भूल भ्रांति सभी भाई,मुख पर लाकर कांति।
मुबारक मकर-सक्रांति,कहिए होगी शांति।।
कहिए होगी शांति,अमन का चमन खिलेगा।
सभी गले मिलेंगे,प्रेमभाव बह फलेगा।
सुन प्रीतम की बात,खिला मन में प्रेम फूल।
जा शत्रु से भी मिल,भेदभाव मन के भूल।
****************************
3..कुंडलिया
****************************
शिक्षित होकर यार तुम,समझो सब अधिकार।
उगते सूर्य को सलाम,बाकी को धिक्कार।।
बाकी को धिक्कार,गाँठ बाँधो यह मन में।
सबको भैया लुभाते,खिलते फूल मधुबन में।
सुन प्रीतम की बात,जीवन करो तुम लक्षित।
कुछ कर दिखाना है,हो जाओ सभी शिक्षित।
*****************************
4..कुंडलिया
*****************************
गुरु-गोविंद सिंह दिवस,सबको मुबारक हो।
वीरता का सूचक यह,उमंग प्रचारक हो।।
उमंग प्रचारक हो,सबको लख-लख बधाई।
मिलजुल रहना सदा,एक हो भारत-भाई।
सुन प्रीतम की बात,बहादुरी हो अब शुरू।
यही सीख दे गए,यहाँ गोविंद सिंह गुरु।
*****************************
5..कुंडलिया
*****************************
सफेद साडी में सनम,एंबुलेंस लगे तू।
वो घायल ले जाए सनम,बस घायल करे तू।।
बस घायल करे तू,फिर भी प्यार आए है।
खुशबू बन हृदय में,तू समाए जाए है।
सुन प्रीतम की बात,प्यार में नहीं है भेद।
आ मिल जाएं यार,कर हृदय अपना सफेद।
**********राधेयश्याम बंगालिया
प्रीतम कृत******************??

Author
Recommended Posts
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
|| 'नव कुंडलिया 'राज' छंद'-1 || ------------------------------------- दिन अच्छे सुन बच्चे आये आये लेकर बढ़े किराये , बढ़े किराए , डीजल मंहगा डीजल मंहगा ,... Read more
हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी
हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी। इसकी छवि उजियारी होगी। ना कोई लाचारी होगी। अब न यह बेचारी होगी। ना कोई रँगदारी होगी। मर्दुमरायशुमारी होगी। खड़ी फौज... Read more
गज़ल
न ही रवा कहिए न ही सज़ा कहिए जो हो रहा है वो उसकी रज़ा कहिए। हम तो हैं जी रहे रहमो करम पर उसके... Read more
** तूफ़ान से पहले शान्ति ***
तूफ़ान से पहले शांति होती है तूफ़ान के बाद भी शांति होती है फर्क सिर्फ इतना सा है मन में दबी इच्छाऐं बाहर आने को... Read more