May 11, 2021 · दोहे
Reading time: 1 minute

🥀दोहे🥀

मज़बूरी का फ़ायदा , लेते लोग कलंक।
प्रभु इनको सद्बुद्धि दे , या दे यमपुर अंक।।

सबके सुनें विचार जो , मन से वही निरोग।
अपनी ही गाते रहें , रोगी हैं वो लोग।।

आली-आली में खड़ी , हँस मटकाए नैन।
अंग-अंग घायल करे , छीने मन उर चैन।।

नेक कर्म से नाक हो , धरा लगे ये नाक।
पग-पग ख़ुशियाँ झूमती , हृदय रहे बन पाक।।

दर्दनिवारक है हँसी , देती राहत जोश।
जो सोया हो शोक़ में , यही दिलाए होश।।

अंतर में मत्सर भरे , करे ओज से दूर।
सुरा पान जैसे किया , मन हो बेसुध क्रूर।।

मलयज मन को कीजिये , महकाए हर संग।
असर करे ना डंक विष , कोशिश व्यर्थ भुजंग।।

#आर.एस.’प्रीतम’
सर्वाधिकार सुरक्षित दोहे

2 Likes · 4 Comments · 64 Views
Copy link to share
आर.एस. 'प्रीतम'
712 Posts · 71.6k Views
Follow 33 Followers
🌺🥀जीवन-परिचय 🌺🥀 लेखक का नाम - आर.एस.'प्रीतम' जन्म - 15 ज़नवरी,1980 जन्म स्थान - गाँव... View full profile
You may also like: