गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

🥀गज़ल🥀

🌹🥀ग़ज़ल🌹🥀
मीटर-1222/1222/1222/1222

तुम्हें हमसे शिकायत हो अगर कोई बताओ भी
अकेले हो उदासी में इधर आओ सुनाओ भी//1

कभी रूठे कभी भूले मिले दो दिल इबादत में
दिली उलझन मुहब्बत से अभी आकर मिटाओ भी//2

चली आओ पनाहों में बसा लूँ मैं निगाहों में
तुम्हीं हमदम तुम्हीं जानम मेरी भूलें भुलाओ भी//3

तुझे मेरा मुझे तेरा रहे इतबार अंबर सा
अरे महफ़िल सितारों में कभी ऐसी जमाओ भी//4

हुआ ‘प्रीतम’ फ़िदा तुझ पर दिलो-जाँ से मुहब्बत में
चली आओ हमें दिल से गले अपने लगाओ भी//5

🌹🌹आर.एस.’प्रीतम’🌹🌹

2 Comments · 44 Views
Like
You may also like:
Loading...