.
Skip to content

? ब्रजरज ?

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

दोहे

May 5, 2017

?? ब्रज के दोहे ??
?????????

ब्रजरज सों कट जात हैं,भव-सागर के फंद।
राधे जू की कृपा सों,मिल जाएं ब्रजचंद।।

ब्रजरज है पावन परम,माथे लीजै धार।
पाप-ताप पल में कटें,है जायगौ उद्धार।।

ब्रज की रज चंदन परम,शीतल करती गात।
सूर्यताप कूं भखि रही,मनहु चांदनी रात।।

मुक्ती – मुक्ति की चाह लिए,लोटत ब्रज की धूर।
भाव सहित रज लोटि कें,नयन भए निज सूर।।

ब्रजरज में खेलत-फिरत,हलधर अरु घनश्याम।
राधे जू की कृपा सों,सहज मिलें सुखधाम।

ब्रजरज चंदन शीश पै,धार करौ ब्रजबास।
राधा-मोहन नाम लै,निकरै हर इक स्वांस।।

पूछि रही घनश्याम सों, मुक्ति कौ मुक्ती उपाय।
नित ब्रजरज धर शीश पै,मुक्तीहु भव तर जाय।

ब्रजरज लोटत चरण गहि,बनौ रसिक हरीभक्त।
जग के सिग बंधन तजौ,है मन-वचनहि विरक्त।।

ब्रज के राजा सांवरे,सखियन के घनश्याम।
मेरौ मन तोसों लग्यौ,बिसर गयौ सब काम।।

रूप *तेज* बल खान हो,राधा नवल किशोर।
चरण-शरण दै दास कूं, कर किरपा की कोर।।

?????????
? तेज 2/5/17✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more