.
Skip to content

? दिव्य राधा-कृष्ण रास…..?

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

घनाक्षरी

May 12, 2017

?? मनहरण घनाक्षरी ??
??????????

दिव्य राधा-कृष्ण रास’
ब्रजवास सिद्ध आस
देव जहां करें वास
? दर्श हेतु आइये।?

देवभूमि हिंद धरा
प्रकृति का कोष हरा
कृषकों की धरती पे
? शीश को झुकाइये।?

सभी माता भारती के
मनु-रूपी देव-जन
लोभ मोह द्वेष तज
? दिव्यता दिखाइये।?

नव प्रतिमान गढ़ें
भारती की शान हेतु
‘तेज-वान’ संस्कृति हो
? गीत ऐसे गाइये।?

??????????
?तेज 12/05/17✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
राजयोग महागीता : घनाक्षरी छंद:( पोस्ट क्रमॉक १)
जप- जप जप - जप कृष्ण नाम , महामंत्र - कीर्तन कर , अपने सद्चरित्र का निर्माण कीजिए । कहना ये उचित होगा , प्रभु-... Read more
कृष्ण की माया
???? कैसा है ये कृष्ण की माया, हर गोपी संग कृष्ण की छाया। जोड़ी युगल बांधे प्रीत की धागा, राधा - कृष्णा, कृष्णा - राधा।... Read more
ये मथुरा की धरती हैं साहब !
ये मथुरा की धरती हैं साहब! जीवित हैं यहाँ कृष्ण की कहानियाँ, जीवित हैं यहाँ राधा की निशानियाँ यशोदा की जुबानियां, माखनचोर की शैतानियां जीवित... Read more
यूँ ही राधा-कृष्ण का नाम नहीं होता, ....
गुलाब मुहब्बत का पैगाम नहीं होता, चाँद चांदनी का प्यार सरे आम नहीं होता, प्यार होता है मन की निर्मल भावनाओं से, वर्ना यूँ ही... Read more