Dec 20, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

😘●पनघट पर बलमा ने पकड़ी मारी कलाइयां●😘

*पनघट पर बलमा ने पकड़ी मारी कलाइयां*

◆ पनघट पर गौरी की बलमा ने पकड़ी कलाइयां,,
बोली गौरी छोड़ो जी बलमा कलाइयां वरना करूँगी लड़ाइयां।

◆प्रेम भरी निग़ाहों से देख गौरी करें बतिया,,
जल्दी बनाओ न सैंया जी हमको अपनी दुलनियां

◆ पनघट पर पहुँच साखियाँ करे हँसी ठिठोलियाँ।
एक दूसरी की गागर से पानी संग करे ढेरों मस्तियां।

◆ सखी की राह देख रही सखी सहेलियां,,
सांझ ढलने आयी चल बोल रही सहेलियां।

◆ खेतो खलियानों की शहर सपाट को जाती इनकी टोलिया,,
गाँव के छोरो का मन मोह जाती इनकी हँसी ठिठोलियां।

*गायत्री सोनू जैन मंदसौर*

158 Views
Copy link to share
Sonu Jain
290 Posts · 20.9k Views
Follow 3 Followers
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,,... View full profile
You may also like: