.
Skip to content

? हास्य जीजा-साली ?

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कुण्डलिया

May 17, 2017

जीजा-साली कुण्डलिया

?????????

जीजा-साली सों कहे,सुन ले देकर ध्यान।
कह दे अपनी बहन ते,करै मेरौ सम्मान।
करै मेरौ सम्मान,मान कें पति-परमेश्वर।
मेरे नाज उठाय,त्याग दे अपने तेवर।
बीबी बोली घाघ, तेरौ अब कर दूँ तीजा।
भगि रहे दुम दबाय, *तेज* कदमन ते जीजा।

?????????

जीजाजी आवेश तर,छोड़ भगे ससुराल।
साली नें चुटकी लई, ‘और सुनाऔ हाल’।
और सुनाऔ हाल,भई हमसे क्या गलती।
दीदी रहीं बुलाय,आपकी भजिया तलती।
भूल-चूक कर माफ़,शॉप ते लैयों भाजी।
*तेज* पड़ें बीमार,लौट अइयों जीजाजी।

??????????
?तेज मथुरा

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more