.
Skip to content

?व्हाट्सअप बजमारौ…..?

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

घनाक्षरी

May 15, 2017

?? ? व्हाट्सअप??

व्हाट्सप बजमारौ
खाय रह्यौ खून मेरौ
पढें नाय छोरा-छोरी
कह रई मइया।

खुद रात बारै बजे
भावना की गंग बीच
गोतन लगाती भई
दिख रई दइया।

प्रातः शाम आठोंयाम
चाहे करै कछु काम
भजि-भजि आय देखै
बजै जु पपइया।

बिगरी है पीढ़ी *तेज*
त्याग दई लाज शर्म
बेहूदे निगोरौ फ़ौन
गीत गावै भइया।

??????????
?तेज ?

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
आँचल संभाल कर चलना : कविता
आँचल संभाल कर चलना हवाएँ तेज़ हैं। कमसिन उम्र की होती ये अदाएँ तेज़ हैं।। कलियों की रुत पर,भ्रमरों की नज़ाकतें। आने लगी हैं सुनिए,सरेआम... Read more
तेज धूप, और तेज बारिश
तेज धूप, और तेज बारिश में घूमने का मजा शायद लिया होगा न बारिश गर्मी लगने देती है, न धूप बाहर घूमने देती है !!... Read more
?विचार आप कीजिये....?
?? पञ्चचामर छंद ?? शिल्प - ज र ज र ज + गु ? विचार आप कीजिये, विकास होय देश का। सुधार आप कीजिये, सुधार... Read more
हास्य:-बात माननी पड़ी !
हास्य:-बात माननी पड़ी ! . बात गहरी है, पर कुछ भी नहीं, . रात औरत कह रही थी, मिर्च तेज है, रात खाना, उसने नहीं,... Read more