.
Skip to content

? मुहब्बत से पहले ?

Govind Kurmi

Govind Kurmi

शेर

March 8, 2017

रंज ओ गम थे
?????फिरभी कम थे
अकेले तन्हा
?????जब अधूरे हम थे

??????❤❣??

बस एक डर था
????? दिल बेअसर था
क्यों कोई भाये ना
????? यह बेखबर था

??????❤❣??

नींदें भी आती थी
?????रातें भी गाती थी
वो भी क्या बातें बस
.????? मुस्कुराहट लाती थी

??????❤❣??

मासूम जमाना था
????? मंदिर ही ठिकाना था
ना ही कहीं चर्चे
?????ना कोई फसाना था

??????❤❣??

दिल के कई अरमान थे
?????? उड़ते फिरते तूफान थे
इश्क रोग से पहले हम
????? बजरंग दल की शान थे

??????❤❣??

खुद से ही बगावत थी
?????जब हुई मुहब्बत थी
बस एक इश्क के बाद
?????आंसुओं की कयामत थी

?????❤?❣??

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
हम कवि नही है
हम कवि नही है हम तो बस एक कारीगर है | देख कर जग की बाते लकिरो में, हम शब्दो को जोड़ने वाले मिस्त्री है।... Read more
~~ दिल की बात ~~~
वो आये और अपनी दस्तक दी हाल ऐ दिल चुपके से कह गए न बोले न कुछ कहा , बस जाते जाते, अपनी बात बस... Read more
दीदारे दिल
मुक्तक. दीदारे दिल सुनो दीदार दिलवर का. हमें हर शाम करना है. हमारे गीत हर नगमें. तुम्हारे नाम करना है. चले जाये सनम जब हम.... Read more
आप बस हमारे हैं
लिख दो जो आज लिखना है, कल किस ने देखा है यार पता नहीं मौसम कैसा होगा कहीं हो न जाएँ, बीमार !! बात दिल... Read more