Nov 1, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

💓माँ💓

मुँह से निकला पहला शब्द है माँ ।
बच्चे की पहली गुरु है माँ ।।
ममता की सच्ची मूरत है माँ ।
हर बच्चे की जरूरत है माँ ।।

माँ सा प्यार मिले कहीं ना ।
ढूंढ लो चाहे सारी दुनिया ।।
माँ से बढ़कर और कोई ना ।
माँ ने ही दिखलाई ये दुनिया ।।

भगवान का दूसरा रूप है माँ ।
दुनिया में आने का ज़रिया है माँ ।
हम सबके जीवन का आधार है माँ ।
लगाती हमारे जीवन को पार है माँ ।।

माँ की कीमत उनसे पूछो ।
जिनकी बिछड़ जाती है माँ ।।
माँ बिन जीवन की बगिया सूनी ।
जीवन रूपी बगिया की माली है माँ ।।
____________________________
———————————————-
नीलम घनघस ढांडा
हरियाणा चंडीगढ़

Votes received: 128
27 Likes · 231 Comments · 1042 Views
Copy link to share
Neelam Chaudhary
Neelam Chaudhary
110 Posts · 77.1k Views
Follow 42 Followers
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी... View full profile
You may also like: