.
Skip to content

?मेरा और मेरे मित्र का वार्तालाप?

Ritu Asooja

Ritu Asooja

लेख

January 23, 2017

मेरा और मेरे मित्र का वार्तालाप ”
“मेरा और मेरे मित्र का वार्तालाप”

कुछ लोग ऐसे होते हैं,जो बेवज़ह खुश रहने की वज़ह पूछते है।
एक बार मेरे एक मित्र मेरे घर आये और कहने लगे ,मित्र तुम यूँ ही बेवज़ह ना मुस्कराया करो ,नज़र लग जायेगी ।
मैं कुछ पल रुकी ,फिर बोली ठीक है ,मैं नहीं मुस्कराउंगी ,
पर क्या हर पल दुखी रहूँ । कुछ पुरानी बातों को याद कर रोती रहूँ ,ठीक है ना फिर नज़र नहीं लगेगी ज़माने की।

मेरे मित्र बोले नहीं यार क्या कहूँ, लोग कहते हैं ये जो तुम खुश रहते हो ना, इसका कारण है कि तुम्हारे पास कोई कमी नहीं है ।
मैंने कहा हाँ कोई कमी नहीं है । भगवान का दिया सब कुछ है ।
पर मेरे खुश होने की वज़ह सिर्फ पैसा ही है ,ये तुम सबकी ग़लतफ़हमी है ।
मेरे मित्र ने कहा हाँ यही तो मैं कहना चाहता हूँ ,कि लोग सोचते हैं कि तुम्हारे पास पैसा है इसी लिये तुम खुश रहते हो ,और पैसा तो आनी जानी चीज है ,आज है कल नहीं इसे अपने आने वाले कल के लिये सँभाल कर रखो।

अपने मित्र की बात सुनकर मैं थोड़ा मुस्करायी , फिर जोर -जोर कर हँसने लगी , मैंने कहा अरे तुम सब को कोई ग़लतफहमी हो गयी है। पैसे से तो सिर्फ सुख सुविधाये खरीदी जा सकती हैं ख़ुशी नहीं ,और सुविधाएँ इंसान को कुछ पल तो आराम देती हैं और फिर नयी आव्यशकता को भी जन्म दे देती है।
मैं खुश रहती हूँ की मैं पुरानी बातों को याद कर -करके अपना आज ख़राब नहीं करती,
मैं खुश हूँ, की मैं आने वाले कल कल की चिँता में अपना समय व्यर्थ नहीं करती ,जो होना है वो तो होगा ही हर पल को जीना यही तो जीवन है ।

मैं अपने आज मैं जीती हूँ , जो बीत गया वो सपना था ,जो आयेगा वो किसने देखा ।
पर जो आज और अभी है ,उसे क्यों व्यर्थ की चिंताओं मैं व्यर्थ करना ।
मेरे खुश रहने की वज़ह है कि मैं वर्तमान मे जीती हूँ।
हर पल यहाँ जी भर जियो ,कल किसने देखा । सिकन्दर भी सारी दुनियाँ जीत कर ख़ाली हाथ गया
बड़े-बड़े राजा महाराजा भी खाली हाथ गये ।
जीतना है, तो दिलों को जीत लो मेरे यार कुछ दिलों मे जग़ह बना लो ।।।।।।

Author
Ritu Asooja
जिस तरह समुंदर में लहरों का आना जाना लगा रहता है, इसी तरह मन मन्दिर भी विचारों का आना जाना जाना लगा रहता है , अपने विचारों को सही दिशा देकर परमात्मा की प्रेरणा से कुछ मनोरंजक, प्रेरणादायक लिखने की... Read more
Recommended Posts
मित्र की मित्रता..
तुम्हें शब्दों में परिभाषित करना आसान नहीं है मित्र! प्रेरणा मिली तुमसे अनुभव हुए गहरे श्रृंगारिकता का एक पक्ष हिस्से में दर्ज हुआ मेरे! कुछ... Read more
आप सा मेरा यार है..
नमस्ते जी। राधे राधे। विचारों का क्या ऐ तो आपका प्यार है फक्र है मुझे जो आप सा मेरा यार है। जो मुझे महान बताता... Read more
मित्र
★★★मित्र★★★ .............. .............. मित्र तो बस मित्र है वह आम है ना खास है। मित्र से ही जीवन में खुशीयाँ तेरे पास है।। मित्र है... Read more
मेरा साया
???? खामोश एहसासों में एक धुंधला सा चेहरा उभरता है। तू जिन्दगी है मेरी, आके हाउले से मेरी कानों में कहता है। उसकी एक छुअन... Read more