?? गुरु ग्यान का भंडार है

प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाने वाला होता है गुरु,
तब से साथ देता है,
जब से होती है ज़िंदगी शुरू |
मोमबत्ती की तरह जलकर,
प्रकाशित करता है पथ शिष्य का।
मिटा देता है अंधकार अग्यान का,
जलाकर प्रकाश ग्यान का||
वर्तमान गुरु शिष्य संबंध हैं बहुत ही खराब,
आज का शिष्य गुरु की नहीं करता इज्जत ,
देता है जबाव|
धूमिल होती जा रही है अच्छे गुरूओं की छवि|
इसके लिए कुछ गुरु स्वयं ही हैं जिम्मेदार |
इन्होंने शिक्षा को बना दिया है व्यापार||
स्कूल में दिखावा है, ट्यूशन को बढ़ावा है|
जो आज शिष्य हैं ,
वही कल भविष्य बन आगे आएंगे |
जो आज सीखेंगे, वही भविष्य को सिखाएँगे|
अगर वर्तमान गुरु शिष्य का संबंध है सुधारना,
तो दोनों ओर से करना होगा प्रयास |
शिष्य को गुरू का करना होगा मान ,
गुरु को छोड़ना होगा पढ़ाई का व्यापार ,
निस्वार्थ भाव से देंगे शिक्षा,
तभी होगा अच्छा भविष्य तैयार |
कोई शक नहीं गुरू ग्यान का अथाह है भंडार|
जीवन में अगर अच्छा ,
गुरु नहीं तो ज़िंदगी है बेकार ||
अगर राधाकृष्णन जैसे होंगे गुरु,
तो जगेगा ग्यान का अलख|
हजारों शिक्षक रूपी मोमबत्ती से ,
प्रकाशमान होगा संसार |
क्योंकि गुरु शिष्य का अटूट नाता है,
गुरु ही शिष्य को सिखाता है,
गुरु की महानता है यह तो ,
कि वो गोविंद को बड़ा बताता है||
-रागिनी गर्ग

Like 2 Comment 0
Views 30

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share