👉 सब कुछ आधा लगा...!👇

तुम्हारे चेहरों के सामने सब कुछ सादा लगा ।
चाँद पुरे थे आसमाँ में फिर भी मुझे आधा लगा ।
इश्क़ ,मोहब्बत सब एक ही जैसे है ,
हमें तुम्हारे इश्क़ में भी कुछ ज्यादा लगा ।
तुम्हारी बेरुखी की क्या मिसाल दू अब ,
तुम्हारी नफ़रत भी प्यार से कुछ ज्यादा लगा ।
यू ही लोग मुझे नही कहते है ‘हसीब’
मेरा नाम भी उन्हें कुछ आधा-आधा सा लगा।

:-हसीब अनवर

Like 2 Comment 0
Views 81

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing