.
Skip to content

.? उसे कैसे भुला दूँ मैं , दिया उपनाम है मुझको ?

Kavi DrPatel

Kavi DrPatel

मुक्तक

June 15, 2016

******************************************
मधुर मुस्कान से मेरी , पराजय जीत में बदले ।

उदासी को दिखा आशा, मधुर संगीत में बदले ।

उसे कैसे भुला दूँ मैं , दिया उपनाम है मुझको ,

भुला कर गम ज़माने के, सुखों की रीत में बदले ।**************************************
वीर पटेल

Author
Kavi DrPatel
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता ,गीत , दोहे , छंद, मुक्तक ,गजल , द्वारा सामाजिक व ऐतिहासिक भावपूर्ण सृजन से समाज में जन जागरण करना
Recommended Posts
मुझको बता दे
मेरा दिल परेशां करूँ क्या बता दे। कहाँ जा के रोऊँ वहाँ का पता दे।। लिपटकर थी रोई जो इक दिन मैं तुझसे । इसी... Read more
गज़ल :-- मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥
गज़ल :-- मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥ बहर :- 2122-2122-2122-212 माँग लूँ उसको खुदा से दे के बदले जान भी... Read more
मुक्तक
मुझको कभी मेरी तन्हाई मार डालेगी! मुझको कभी तेरी रुसवाई मार डालेगी! कैसे रोक सकूँगा मैं तूफाने-जख्म़ को? मुझको कभी बेरहम जुदाई मार डालेगी! #महादेव_की_कविताऐं'
मोहब्बत कैसे की जाती है....
????? मोहब्बत कैसे की जाती है, कोई बता दे मुझको । मैं उड़ता परिन्दा हूँ, कोई कैदी बना दे मुझको । इश्क क्या चीज है,... Read more