.
Skip to content

? शाकाहारी बनो…?

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

घनाक्षरी

May 7, 2017

?? मनहरण घनाक्षरी ??
? शिल्प- 8887 लघु गुरु ?
??????????

प्रकृति ने मानव को
रूप दिया *शाकाहारी*
*नख-दन्त अंतड़ी हैं*
*शाकाहारी* देखिए।

मार-मार जीव-जन्तु
मुरदे पकाते-खाते
जीभ के ही स्वाद हेतु
नर-नारी देखिए।

*मांसाहार करने से*
*तन होगा रोगी* फिर
*फैलेंगी अनेकानेक*
*महामारी* देखिए।

जीवन सभी को दिया
*जीवों पे भी करो दया*
नष्ट न हो जाय *तेज*
स्रष्टि सारी देखिए।

??????????
?तेज 7/5/17✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
मांसाहार छोड़कर,शाकाहारी बनो.....
? विनम्र निवेदन ? ?? मनहरण घनाक्षरी ?? ? शिल्प- 8887 लघु गुरु ? मांसाहार छोड़कर शाकाहारी बनें सभी मानवीय गुण हेतु करिए प्रयास जी।... Read more
??चिरागे-मुहब्बत जलाकर देखिए??
हाथ से हाथ ज़रा मिलाकर देखिए। इंसानियत का गुल खिलाकर देखिए।। ज़िन्दगी किस तरह से संवरती है। चिरागे-मुहब्बत यार जलाकर देखिए।। परहित को दिल में... Read more
ख़ूबसूरत शै को अक़्सर देखिए
मेरा दिल है आपका घर देखिए जी न चाहे फिर भी आकर देखिए आप हैं, मैं हूँ, नहीं कोई है और क्या मज़ा है ऐसे... Read more
आदमीयत फिर जगा कर देखिए
जां वतन पर तुम लुटा कर देखिए दर्द गैरों का उठा कर देखिए ?? नफरते आतिश लगी है चार सूं प्यार का दीपक जलाकर देखिए... Read more