? शाकाहारी बनो...?

?? मनहरण घनाक्षरी ??
? शिल्प- 8887 लघु गुरु ?
??????????

प्रकृति ने मानव को
रूप दिया *शाकाहारी*
*नख-दन्त अंतड़ी हैं*
*शाकाहारी* देखिए।

मार-मार जीव-जन्तु
मुरदे पकाते-खाते
जीभ के ही स्वाद हेतु
नर-नारी देखिए।

*मांसाहार करने से*
*तन होगा रोगी* फिर
*फैलेंगी अनेकानेक*
*महामारी* देखिए।

जीवन सभी को दिया
*जीवों पे भी करो दया*
नष्ट न हो जाय *तेज*
स्रष्टि सारी देखिए।

??????????
?तेज 7/5/17✍

101 Views
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती...
You may also like: