? बेटी ?

?? मुक्तक ??

शर्त लगी थी एक शब्द में, लिखनी हैं जग की खुशियाँ ।
मैंने तो “बेटी” लिख डाला, करके अपना दर्द बयाँ।
जग की सब नेमत हैं जिसके,धूल बराबर पैरों की।
क्यों करती है “तेज” कोख में,इनकी हत्या ये दुनियाँ।

??????????
©तेजवीर सिंह “तेज”

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share