23.7k Members 49.9k Posts

.? बसंती ओढ़कर चूनर , धरा ससुराल जाती है "

****************************************

गगन के संग मगन देखो, बड़ी खुशहाल जाती है ।

विविध रंगों के सुमनों से , सजाये बाल जाती है ।

धरा साड़ी हरित पहने , किये श्रृंगार सोलह सब,

बसंती ओढ़कर चूनर , सजी ससुराल जाती है ।

***************************************
वीर पटेल

Like Comment 0
Views 20

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Kavi DrPatel
Kavi DrPatel
25 Posts · 1.6k Views
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता...