.
Skip to content

गज़ल

शिव मोहन यादव

शिव मोहन यादव

गज़ल/गीतिका

March 3, 2017

गज़ल

साथ तुमने दिया तो संवर जाएंगे।
हम मुहब्बत में हद से गुज़र जाएंगे।

गर जो थामा है दामन तो ये सोच लो,
तुमने छोड़ा तो सचमुच बिखर जाएंगे।

मुश्किलों से मिली है ये कारीगरी,
मौत के साथ मेरे हुनर जाएंगे।

तुम भुला क्या सकोगे हमें उम्र भर,
हम तेरी रूह तक में उतर जाएंगे।

गर ख़ुदा भी कहे दूर हो यार से,
यार तेरी क़सम हम मुकर जाएंगे।

– शिव मोहन यादव

Author
शिव मोहन यादव
जन्म- नेरा कृपालपुर, कानपुर देहात में माता-पिता : श्रीमती कुषमा देवी-श्री सूरज सिंह शिक्षा: बी.एस-सी., एम.ए.(जनसंचार एवं पत्रकारिता) लेखक 'दैनिक जागरण' में उप संपादक रहे हैं. पता - नेरा कृपालपुर, गौरीकरन, कानपुर दे. यूपी मो. 9616926050 ई-मेल - shivmohanyadavkanpur@gmail.com
Recommended Posts
ग़ज़ल
मुख्तसर से ही सही पर फासले' रह जाएंगे " गर मिजाज़ों में अना के वसवसे' रह जाएंगे। इश्क़ जिस दिन पहुंचेगा यारो जुनूं की हद... Read more
गले में हाथ डाले जायेंगे अब,,
गले मे हाथ डाले जाएंगे अब, छुपे खंज़र निकाले जाएंगे अब, सुना है की अतिक्रमन हटेगा, गरीबों के निवाले जाएंगे अब, हमें अब कौन है... Read more
कुर्सियाँ अपनी लेकर किधर जाएंगे
कुर्सियाँ अपनी लेकर किधर जाएंगे ये तो नेता हैं खुद ही उतर जायेंगे देखना वोट पाने को नेता यहां अब दिलों में जहर कितना भर... Read more
इनायत (ग़ज़ल)
ग़ज़ल ----- मुझपे इनायत जो तेरी बनी रहे। मेरे जीने की हसरत बनी रहे। तेरी इबादत ही है करम अपना। ये हमेशा मेरी आदत बनी... Read more