? अन्नदाता किसान..... ?

? क्षणिकाएँ ?

जाड़ा गर्मी वर्षा सहके
श्रम-स्वेद में नितप्रति बहके
अन्न उगाकर करता दान
पर-उपकारी हुआ “किसान”।

?????????

तप रहा तन
भट्टियों सा
कर रहा फिर भी
श्रमदान
धन्य धन्य
“कृषिकर्म-किसान”

??????????
?तेजवीर ‘तेज’ मथुरा ✍

Like Comment 0
Views 287

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share