मुक्तक · Reading time: 1 minute

?माता-पिता?

?? *मुक्तक* ??
?बह्र – 1222 1222 1222 1222?
??????????

अभागे लोग होते हैं पिता-माँ को सताते हैं।
कभी भी चैन जीवन में न वे दिन-रात पाते हैं।
मुसीबत जान कर जो छोड़ आते हैं वृद्धाश्रम।
सदा औलाद के हाथों यही दुःख खुद उठाते हैं।

??????????
?तेज मथुरा?

66 Views
Like
You may also like:
Loading...