Jul 13, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

? ग़ज़ल-२ ?

एक कोशिश आपके हवाले …..

?_________________________________________

दिन ढलते ही जम जाती है ,महफिल जब तनहायी की;
कुछ साये करते हैं हरदम बात तेरी रुसवाई की..!!
___________________________________________?

आँखों की लाली से दिन के उजियारे ने भी पूछा;
खाब तुम्हारे ज़ख्मी क्यों हैं , किसने हाथापाई की..!!
?_________________________________________

हाय सिसकते आहें भरते कितने दिन और रात गये;
उन बंजारे लम्हातों की तुमने कब भरपाई की..!!
__________________________________________?

दीवारें भी मुझको मुजरिम मान चुकी हैं बरसों से;
मैंने भी तो इनको रँगकर केवल रस्म अदाई की..!!
?________________________________________

आखिर आँधी – तूफानों में मैं ही क्यों हरबार जलूँ;
ज़िम्मेदारी कुछ तो होगी हाँ मेरे हमराही की..!!
__________________________________________?

?अर्चना पाठक “अर्चिता”?
?________________________________________

1 Like · 2 Comments · 31 Views
Copy link to share
archna pathak
3 Posts · 120 Views
im a writer ... View full profile
You may also like: