दोहे · Reading time: 1 minute

【1】 इन्तजार

इन्तजार अपनी मंजिल का, करते रहना चाहिए।
जब तक ना मिल जाये मंजिल, धैर्य से कदम बढा़ईए।।

4 Likes · 49 Views
Like
5 Posts · 313 Views
You may also like:
Loading...