Skip to content

❤वो हो तुम?

मानक लाल*मनु*

मानक लाल*मनु*

कविता

March 6, 2017

❤वो हो तुम?
मैं दुनिया को दुनिया कैसे कह दूँ,
मेरी एक ही दुनिया है,
वो हो तुम।।
मैं ज़माने से हर लड़ाई लड़ जाऊ तेरी खातिर,
मगर जंग में नाम तेरा होगा इसलिए झुक जाता हूँ तेरी खातिर,
जो हार जीत को बराबर करती,
वो हो तुम।।
मैं दरिया ही रह लूंगा मुझे समन्दर न बना अपनी खातिर,
मेरे आगोश में सिर्फ तुम रहना मेरी बाहे नहीं खुलती और की खातिर,
जिसका दिलो जान से हूँ मैं,
वो हो तुम।।
तमन्नाओ का हुजूम दिल में आता है तेरी खातिर,
अपने आपमें समाता हूँ तेरी खातिर,
जो आग जलाती है बुझाती है,
वो हो तुम।।
फशाने और अपसानो में आया तेरी खातिर,
जानो को अंजानो सा पाया तेरी खातिर,
एक मै सब नजर आते,
वो हो तुम।।
जान मनु की लगती हो,
जान से प्यारी दिखती हो,
जान मै जान जो लाती है,
वो हो तुम।।
?मानक लाल मनु✍

Author
मानक लाल*मनु*
सम्प्रति••सहायक अध्यापक2003,,, शिक्षा••MA,हिंदी,राजनीति,,, जन्मतिथि 15मार्च1983 पता••9993903313 साहित्य परिसद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,, स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,, सभी विधाओं में रचनाकरण, मानक लाल मनु,
Recommended Posts
वृक्ष और बेटी
-:वृक्ष और बेटी:- तुम फलते हो मैं खिलती हूँ, तुम कटते हो मैं मिटती हूँ; तुम उनके स्वार्थ की खातिर, मैं उनके सपनों की खातिर।... Read more
वृक्ष और बेटी
-:वृक्ष और बेटी:- तुम फलते हो मैं खिलती हूँ, तुम कटते हो मैं मिटती हूँ; तुम उनके स्वार्थ की खातिर, मैं उनके सपनों की खातिर।... Read more
तुम ग़ज़ल शायरी //ग़ज़ल //
तुम सुबह शाम की ईबादत हो मेरी पहली,आखिरी मोहब्बत हो कोई नहीं जहां में यारा तुम सा सच में तुम इतनी खूबसूरत हो तुम्हें पाके... Read more
मैं लिखता हूँ तुम्हारी खातिर,
मैं लिखता हूँ तुम्हारी खातिर, तुम जान हो मेरी, मैं शायर हूँ तो क्या, तुम पहचान हो मेरी, सहर तुम्हारी याद से होती है, तुम... Read more