✏मेरी कलम चल पड़ी✏

*मेरी कलम चल पड़ी*

● चल पड़ी है कलम भी सबक उनको सीखलाने ,
जो रोक बैठे है बच्चो को पढ़ने स्कूल में आने।

●कलम कहती है लिखना पढ़ना सीख लेना,,
अपनी तकदीर को खुद चमकाना सीख लेना।

●अनपढ़ को न पूछे दुनियां समझ लेना,,
संसार झुकता है विद्वानों के आगे देख लेना।

●कलम ही दिलाती है मान और सम्मान जान लेना,,
इसका मूल्य सही बुरे वक़्त में पहचान लेना।

●देश को साक्षर बनाने का सपना मन में ठान लेना,,
किसी गरीब को मुफ्त में अक्षर ज्ञान करा देना।

●सब पढ़े,सब बढ़े सोनू तुम यही ख्वाईशें रख लेना,,
ज्ञान का उजाला पूरे जगत में फैले तमन्ना दिली मन मे रख लेना।

*गायत्री सोनू जैन मन्दसौर*

Like Comment 0
Views 139

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing