.
Skip to content

*★बच्चों की दुनिया में★*

Sonu Jain

Sonu Jain

कविता

November 14, 2017

*★बच्चों की दुनिया में★*

फूलों का तितली से जैसा नाता है बगिया में,,
बच्चो का भी वैसा चाचा से नाता है दुनिया में,,

कोई फूल खिले महलों कोई घर आंगन में,,
पर सब बैठे शिक्षा लेते शिक्षक के दामन में,,
सब बच्चों की खुशहाली है कि कक्षा की डलिया में,,

मुस्काती नन्ही बेटी जब देती हाथ मेरे हाथ में,,
बच्चो की हंसी ठिठोली ख़ुशिया लाती जीवन में,,
सारा गम ओझल हो जाता बच्चों की दुनिया में,,

बच्चों के सपनो का संसार निहारी में,
कभी सब कुछ जीती सब कुछ हारी में,
बालदिवस पर मैं भी खोई बच्चों की दुनिया में,,

गुड्डा- गुड्डी भंवरे तितली सब इस दुनियां में,,
पर सोनु का बचपन खोया काम धाम की दुनिया में,,

*【सोनु जैन मन्दसौर】*

Author
Sonu Jain
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,, स्थानीय स्तर पर काव्य व लेखन, साथ ही गायन में रुचि,,,
Recommended Posts
माँ
????? माँ होती बेहद सामान्य महिला, जो बच्चों से नहीं करती गिला। माँ का दिल होता बहुत ही बड़ा, प्रेम,त्याग,वात्सल्य से पूर्ण भरा। आत्म शक्ति... Read more
पहले से तय है
*पहले से तय है...!* वो बच्चा जो अभी पैदा भी नंही हुआ...! उसका मजहब पहले से तय है...! उसका दुश्मन दोस्त कौन है...! पहले से... Read more
दोहे रमेश के दिवाली पर
संग शारदा मातु के, लक्ष्मी और गणेश ! दीवाली को पूजते, इनको सभी 'रमेश !! सर पर है दीपावली, सजे हुवे बाज़ार ! मांगे बच्चो... Read more
माँ
माँ का हृदय नदी सा, जिसमें बहती ममता की धारा । माँ का वात्सल्य अंबर सा,जिसमें समाहित जग सारा ।। माँ दुख न बाँटती अपना,... Read more