Skip to content

★गैरो के लिए मुझे क्यों तू छोड़ चला गया★

Sonu Jain

Sonu Jain

कविता

December 7, 2017

*गैरो के लिए मुझे क्यों तू छोड़कर चला गया*

★दिल मेरा हैरान और परेशान हो गया,
तू जब मेरे दामन से हाथ अपना हटाते चला गया,

★ढूंढती रह गई मेरी नजर तुझे दुनियां की भीड़ में,
तू जब किसी और के लिए मुझे छोड़ कदम बढ़ाते चला गया।

★जाते जाते तुझे मेरी मोहब्बत रास न आयी,
तू मेरी दिल की आह को महसूस भी न कर दूर चला गया।

★ मैं अश्क आँखों सेअपने दिनरात गिराते रही।
तू भी मेरी जिंदगी को नासूर बनाता चला गया।

★गैरो से मिलते,गले लगाते हँसते खिलखिलाते तुझे देख,
मुझेभी तेरी बेवफाई का खूब सूरत अंदाजा लगते चला गया।

★तुझे चाहा था मेने अपनो से भी ज्यादा,
तू मेरे ख्वाबो और ख्वाईशो का गला घोटते चला गया,

★बरसती रिमझिम बारिश में हम अश्क तेरी
जुदाई में गिराते रहे,
तू उन अश्को को बारिश की बूंदे समझता चला गया,

★हम जागते रहे रातो में तेरी यादों की तन्हाई में करवटे बदल बदल,
तू हमें इश्क की गंभीर बीमारी का मरीज समझता चला गया।

*सोनू जैन मंदसौर*

Share this:
Author
Sonu Jain
From: Mandsour
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,, स्थानीय स्तर पर काव्य व लेखन, साथ ही गायन में रुचि,,,
Recommended for you