■तू मुझपे एतबार करके तो देख■

*तू मुझपे एतबार करके तो देख*

■तेरे लहू से मेरे लहू को मिलाकर तो देख,
घुल जाएगी तेरे रगों में मेरे इश्क की खुशबू,
अपनी साँसों को मेरी साँसों से मिलकर तो देख।

■अपनी निग़ाहों को मेरी निग़ाहों के करीब लाकर तो देख,
सीधे तेरे दिल मे उतर जाऊंगी मुझे अपने दिल के करीब बुला कर तो देख।

■सज जाऊंगी पलको पर तेरे सपना मैं बनकर देख,
तू मुझे तेरी आँखों मे थोड़ी जगह देकर तो देख।

■राहो का हर काँटा खुदबखुद दर किनार हो जाएगा तू देख,
तू मुझे सिर्फ तेरी मंजिल बनाकर तो देख।

■इश्क की आग बुझ जाएगी मेरे मिलन से तू देख,
तू मुझे अपनी बाहों में भरकर तो देख।

■ चाँद को भी चाँदनी से प्यार हो जाएगा तू देख,
तू मेरे इश्क दरिया में डूब कर तो देख।

■ इश्क ए मोहब्बत सब रास आ जायेगी तू देख,
सोनू से एक बार अपना दिली हाल बता कर तो देख।

*सोनू जैन मंदसौर*

Like Comment 0
Views 136

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing