Skip to content

⏰वक़्त बदल?

मानक लाल*मनु*

मानक लाल*मनु*

कविता

October 13, 2017

⏰वक़्त बदल?
वक़्त भी आज कुछ बदल सा रहा है,,,
वो दूर सही पर साथ चल सा रहा है,,,

ये मौसम कमाल का है आज शहर का,
भला भी है और बदल भी रहा है,,,

चलो चलते है उनपगडंडियो पर,,,
ये सड़को डामल पिघल सा रहा है,,,

सब आईने सा साफ हो जाये तो खुशी मिले,,
अभी धुँए सा चेहरे पे ढल रहा है,,,

बेगैरत सी हो गई हो गई है मनु दुनिया,,
पता ही नही चलता कौन आगे कौन पीछे चल रहा है,,,
मानक लाल मनु,,,✍✍
?9993903313

Author
मानक लाल*मनु*
सम्प्रति••सहायक अध्यापक2003,,, शिक्षा••MA,हिंदी,राजनीति,,, जन्मतिथि 15मार्च1983 पता••9993903313 साहित्य परिसद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,, स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,, सभी विधाओं में रचनाकरण, मानक लाल मनु,
Recommended Posts
वक्त
वक्त से सीखा की वक्त किसी के लिये रूकता नहीं वक्त ने ही जताया,वक्त सब का एक सा चलता नहीं बदलते वक्त के साथ जो... Read more
वक्त
????? वक्त एक ऐसा गुरू, बिना कहे दे ज्ञान। जीवन में जीता सदा, जिसे वक्त का भान।। 1 वक्त बेवक्त वक्त में, ऐसा वक्त दिखाय।... Read more
जीतने का जूनून
आसमां क्या चीज़ है वक्त को भी झुकना पड़ेगा अभी तक खुद बदल रहे थे आज तकदीर को बदलना पड़ेगा अधूरी कहानी छोड़ने की आदत... Read more
फिर आऊँगा ....
मैं नाम बदल फिर आऊँगा ! किसी दरख्त का फूल बनकर अंबर का तारा बनकर- - - तितलियों सा रंग-बिरंगा--- जंगल में मंगल करने हिरन... Read more