.
Skip to content

⌚⌚ वक्त ⌚⌚

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

May 12, 2017

?? वक्त ??
??????????

“वक्त को वक्त मिला जब भी”
तब वक्त ने वक्त पे ली अंगड़ाई।
वक्त पे वक्त निकाला नहीं
तो वक्त से वक्त की देना दुहाई।

‘वक्त पे वक्त की कद्र करो तुम’
वक्त-बेवक्त करो नहीं भाई।
‘वक्त के जैसा हितैषी नहीं’
और वक्त के जैसा नहीं हरजाई।

वक्त जो तेरे साथ रहे तो
फर्श से अर्श पे हो जिंदगानी।
वक्त जो फेरे आँख कभी तो
बन जाएँ नई-नई कहानी।

वक्त के साथ चलो जग में
तो वक्त तुम्हारे पीछे घुमे।
वक्त करेगा वारे-न्यारे
नित्य सफलता पदरज चूमे।

वक्त का मान किया जिसने
वह भूप-अनूप महान कहाया।
वक्त का जब अपमान हुआ
तब मूल-समूल दिखे छितराया।

सतयुग में बन हरिश्चंद्र नृप
जाकर के श्मशान बुहारे।
त्रेता में हुआ राम वक्त ही
लंका जाय असुर संहारे।

द्वापर में बन मनमोहन
कंस पछारा उसी के द्वारे।
कलयुग काल घने अवगुन
यहाँ वक्त भी रोये साँझ-सकारे।

वक्त का “तेज” सदा रहता
मानव-हित काज करे मंगल के।
वक्त-बेवक्त जो जानें नहीं
वे मानव रूप पशु जंगल के।

??????????
? तेज 11/5/17✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
* वक़्त बदलेगा मेरा भी *
सबका वक़्त बदलता है ! एक दिन वक़्त बदलेगा मेरा भी !! आज चाहे वक़्त जैसा भी हो ! कल वक़्त बदलेगा मेरा भी !!... Read more
वक्त
वक्त से सीखा की वक्त किसी के लिये रूकता नहीं वक्त ने ही जताया,वक्त सब का एक सा चलता नहीं बदलते वक्त के साथ जो... Read more
वक्त
वक्त वक्त बर्बाद करना ही, जिंदगी बर्बाद करना है लिया है जन्म आज तो, फिर एक रोज़ मरना है मेहनती​और कर्मठ का सखा यह वक्त... Read more
बदलता वक़्त
Abhinav Saxena शेर May 31, 2017
बदलते वक्त का शेर है कि, अच्छा या बुरा वक्त आता है बदल जाने के लिए इंसान को इंसानी फितरत याद दिलाने के लिये। वक़्त... Read more