≈ माँ ≈

≈ माँ ≈
¤ दिनेश एल० “जैहिंद”

“माँ”
म…आँ !
कोमल अंतर्मन से
निकला हुआ अनादि स्वर
न जाने कितने अर्थों को
स्वयं में समेटे हुए

तथापि इस शब्द के पैदा
होने से पूर्व कोई अन्य शब्द
प्रस्फुटित नहीं हुआ होगा ।
ब्रह्मांड में गूंजने वाला
पहला नि:शब्द ।

हिरणी के शावक-मुख से
प्रथम जो स्वर
उच्चरित हुआ होगा—
“मे–मे—मे”
उसमें भी छुपा होगा
एक बेजुबान प्राणी की
अदम्य इच्छा !

कल-कल, छल-छल,
सर-सर, टन-टन,
फर-फर, खर-खर
जैसी ध्वनियों में
एक ध्वनि “…. आँ” भी रही होगी
जो “म” के संग गठजोड़ कर
“मआँ” बनाई होगी
तब फिर निश्छल,
वात्सल्यमयी, ममतामयी
“माँ…” की रचना हुई होगी ।

===≈≈≈≈≈≈≈≈≈====
दिनेश एल० “जैहिंद”
04. 06. 2017

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share