.
Skip to content

≈≈≈ मेहनत बनाम किस्मत ≈≈≈

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

कविता

November 13, 2017

मेहनत बनाम किस्मत
// दिनेश एल० “जैहिंद”

मेहनत से सारी बलाएं टल जाती हैं ।
कर्म के भय से शिला पिघल जाती है ।।

कर्मवीरों को हिमगिरि भी चुमता है ।
सागर नीर सोखकर राहें छोड़ता है ।।

कर्मठों के आगे मुसीबतें नहीं भोंकतीं ।
चट्टानें भी खुशी-खुशी रास्ता छोड़तीं ।।

वायु भी देख निज दिशा बदल देता है ।
तूफ़ान भी देख इन्हें दूर भाग जाता है ।।

कायरों को हर खुशी दर से भगाती है ।
वीरो को हर प्रसन्नता पास बुलाती है ।।

अपने हाथ हैं दो तो साथ जगन्नाथ है ।
हिम्मत साथ हो गर सफलता पास है ।।

साहस साहसी का सारथी हर समय है ।
हिम्मती ही धरती पर जिता निर्भय है ।।

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
19. 07. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
तो किस्मत हार जाती है
लगन से की गई मेहनत, नहीं बेकार जाती है अगर दम कोशिशों में हो, तो किस्मत हार जाती है बड़ी बेचैन रहती है, किनारे पर... Read more
क्या है किस्मत?
किस्मत क्या है, आख़िर क्या है किस्मत? बचपन से एक सवाल मन मे है, जिसका जबाब ढूंड रहा हूँ| बचपन मे पास होना या फेल... Read more
=* * चमके किस्मत का तारा * *=
हाथों की लकीरों पर न करो अंधा विश्वास कभी-कभी ये कर देती हैं भविष्य का नाश। इंसान की किस्मत की ये लकीरें बन जाती हैं... Read more
मुक्तक
इंतजार बस तेरा ख़याल तेरा इंतजार करते हैं खुशी तेरी चाहत में खुदी को बेक़रार करते हैं खुशी मेहनत करके तुझे पाना लुत्फ़ देता है... Read more