.
Skip to content

‼‼ बजरंगी मेरे मन की पीर हरो ‼‼

Abhishek Parashar

Abhishek Parashar

अन्य

October 16, 2017

सभी सुहृदों को हनुमत जन्म महोत्सव की अग्रिम शुभ कामना, हनुमान जी सभी सद्बुद्धि देवें तथा रघुपति चरणों में प्रेम बृद्धि करें।

जय हनुमान

बजरंगी मेरे मन की पीर हरो,
कालनेमि जिमि धरनि पछारो, उर में धीर धरो,
कृपा बिलोकहुँ हनुमनू,सब कारज सफल करो,
हाथ फिराओ मेरे भाल पे, अब जन्म सफल करो,
अंजनि लाल सुधि लेउ अब मेरी, चित्त नवनीत करो,
ज्ञान भरो मेरे उर माहीं, सिग अवगुन दूरि करो,
दरश दिखाओ पवन तनय अब, लोचन नीर भरो,
‘अभिषेक’ गहि ले चरण तिहारे, ऐसो गहरो नियम करो।।

###अभिषेक पाराशर###

Author
Abhishek Parashar
शिक्षा-स्नातकोत्तर (इतिहास), सिस्टम मैनेजर कार्यालय-प्रवर अधीक्षक डाकघर मथुरा मण्डल, मथुरा, हनुमत सिद्ध परम पूज्य गुरुदेव की कृपा से कविता करना आ गया, इसमें कुछ भी विशेष नहीं, क्यों कि सिद्धों के संग से ऐसी सामान्य गुण विकसित हो जाते है।आदर्श... Read more
Recommended Posts
नव दुर्गा आराधना गीत
----नव दुर्गा आराधना गीत---- स्वीकार करो माँ मुझको, तेरे शरण में आए हैं । निष्पाप करो मुझ पापी को, तेरे चरण में आए हैं ।।... Read more
ग़ज़ल : बच... के चली आया करो !
बच... के चली आया करो ! 223 223 223 223 आने का मन न हो फिर भी मेरी गली आया करो । दीदार तुम्हारा हो... Read more
साथ ऐसा तुम मेरा निभाया करो
साथ ऐसा तुम मेरा निभाया करो, मेरे जीवन का साया बन जाया करो। थककर ठहरूँ मैं जब भी घनी धूप में, तुम पेड़ों की छाया... Read more
गीत- देख हमारा हाल नहीँ यूँ
गीत- देख हमारा हाल नहीँ यूँ ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ देख हमारा हाल नहीँ यूँ गरज गरज के बात करो दुखिया के कुछ दुख भी सुन लो बादल... Read more