१५ क्षणिकाएँ

(१.) तार
———–
आत्मा
एक तार है
जोड़ रखा है जिसने
जीवन को
मृत्यु से
और मृत्यु को
जोड़ा है …
पुन: नवसृजन से ….

(२.) क्रांति
————-
परत-दर-परत
खुल रही हैं वे बातें
जो लाख पर्दों में
छिपीं रहती थीं …
ये वास्तव में
परिवर्तन है
या दूर संचार क्रांति
से उपजी …
कोई अन्य दुनिया
जहाँ बिना आईने के
सब कुछ
देखा जा सकता है!!

(३.) संवेदनाएँ
—————–
जीवन का अस्थित्व
अभी बाकी है
शायद इसलिए
बम धमाकों
और जिहादी नारों
के बीच भी बची हुई हैं
कुछ मानवीय संवेदनाएँ !

(४.) प्रवाह
————
वे शब्द ही अपना
सार्थक प्रभाव
छोड़ पाने में
सक्षम हैं शायद …
जो स्फुटित होते हैं
स्वयमेव
शब्द प्रवाह से …
वर्ना रचनाएँ
शब्दों की कब्रगाह
ही तो हैं ……।

(५.) अहम्
————
जीवित है अहम् जब तक
शायद मानव
जीवित है तभी तक …
वरना —
जलने से पूर्व
लाश भी
एक शरीर ही तो है।

(५.) भाग्य
————
खुद ही बदलता है
समर्थ व्यक्ति
अपना भाग्य
शायद इसलिए
ज्योतिष को नहीं
मानते कुछ लोग
क्योंकि —
वास्तविक रेखाएँ
कर्म से ही बदलती हैं।

(६.) रेखांकन
—————
स्वयं को
रेखांकित करने के
प्रयास में … बिखर गया
रचनाकार स्वयं …
अपने ही भीतर
अंतहीन विस्तार में …

(७.) सम्प्रेषण
—————–
सम्प्रेषण यदि नहीं है
तो हमारा स्वर स्वयं
हमारी आत्मा को भी
नहीं झकझोर सकता …
परमात्मा को
पाना तो बहुत
दूर की बात है ….

(८.) तूलिका
—————
तूलिका से जब
अनुशासित रूप में
रंग काग़ज़ पर
उकेरे जाते हैं
तो चित्र स्वयं
बोलता है …
चित्रकार तब भी
मौन चुनता है।

(९.) नियति
————–
आँखों से जो दृष्टिगोचर है
यदि वह सत्य है
तो फिर
भ्रम की मनोस्थिति क्या है
क्यों मानव की नियति
कुछ और …
कुछ और जानने में है।

(१०.) संस्कार
—————-
पाश्चात्य पाशुविकता,
दरिंदगी और भोंडेपन को
अपना कर हम न तो
आत्याधुनिक ही बन सके
और न ही हमारे भीतर
परम्परागत संस्कार ही
जीवित रह पाए …
जो हमारे भीतर / निरंतर
मानवता के कई
अध्याय रचते थे !!

(११.) आलोक
—————-
जीवन के प्रस्थान बिन्दू से
हम अपने चरमबिन्दू पर
पंहुच हैं …
चहूँ ओर अब तक
कमाए गए
समस्त अनुभवों का
आलोक फैला है
और प्रकाश से
चकाचौंध आँखें
कुछ भी देख पाने में
असमर्थ हैं !

(१२.) विकट
————–
आस और निरास के
बीच की स्थिति
बड़ी ही विकट है …
व्यक्ति न तो
उधर ही जा पाता है
जहाँ उसे जाना है
और इधर का भी
नहीं रहता जहाँ वह
अपने शरीर का समस्त भार
पृथ्वी पर डाले खड़ा है …

(१३.) दुराग्रह
—————
अपने अस्थित्व को
बचाए रखने के लिए
आवश्यक है कि
हम अपने
समस्त दुराग्रहों को
त्याग दें वरना
एक समर्थ रचनाकार
बनने की दौड़ में
हम सबसे पीछे
छूट जायेंगे …

(१४.) वक़्त
————-
वक़्त तेज़ी से
बदल रहा है
लेकिन
बदलते वक़्त में भी
यह समझना
आवश्यक है कि
अपनी जड़ों को
छोड़ देने से
वृक्ष का अस्थित्व
ख़त्म हो जाता है …

(१५.) चाह
————
हर तरफ़
अन्धकार व्याप्त है जहाँ,
हमें स्वयं को उसके
अनुरूप ढालना होगा
अन्यथा प्रकाश की चाह हमें
पल-पल, तिल-तिल
गला डालेगी।

23 Views
Copy link to share
#26 Trending Author
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार Books: इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह);... View full profile
You may also like: